जयपुर में हॉकर की हत्या के बाद फिर से पथराव व लाठीचार्ज

शहर के खोहनागोरियान इलाके में मदीना कॉलोनी में आज सुबह अखबार बांटने वाले हॉकर मन्नूलाल वैष्णव की हत्या के बाद बवाल हो गया। गुस्साई भीड़ ने खोहनागोरियान थाने के बाहर मेन रोड पर जाम लगा दिया। इसके बाद आक्रोशित लोगों ने पुलिस थाने पहुंचकर हंगामा किया। वहां जमकर नारेबाजी की और मामले में लापरवाही बरतने वाले थानाप्रभारी वीरेंद्र सिंह को सस्पेंड करने की मांग की।

खोनागारियान इलाके में हॉकर की हत्या और थाने पर हंगामे की सूचना पर भाजपा सरकार में संसदीय कार्य मंत्री रह चुके पूर्व विधायक कैलाश वर्मा और बस्सी से विधायक रहे लक्ष्मीनारायण मीणा भी खोहनागोरियान थाने पहुंच गए। इनका आरोप था कि जिस व्यक्ति को मानसिक कमजोर बताकर रफीक खान हत्या के आरोप में पकड़ा है। उसके साथ अन्य लोग भी शामिल थे। जिन्हें गिरफ्तार नहीं किया जा रहा है। इसी बीच मौके पर पहुंचे डीसीपी पूर्व राहुल जैन व एसीपी आदर्श नगर पुष्पेंद्र सिंह ने भीड़ में मौजूद लोगों को समझाने का प्रयास किया। उन्हें न्यायोचित कार्रवाई करने का आश्वासन भी दिया। लेकिन नेता और पुलिस अफसरों के बीच बात नहीं बनी। इस बीच विवाद बढ़ गया। पहले पुलिस और भीड़ में मौजूद लोगों के बीच धक्कामुक्की हुई। इस बीच लोगों ने थाने में ही टैंट लगाकर वहां धरना देने का प्रयास किया। जब पुलिस बल ने प्रदर्शन में मौजूद लोगों को लाठियां भांजकर खदेड़ा। तब गुस्साई ने पथराव शुरु कर दिया। इनमें पूर्व विधायक कैलाश वर्मा, पूर्व मंत्री कन्हैयालाल मीणा सहित कुछ अन्य लोगों व पुलिसकर्मियों के चोटें आई।

पूर्व विधायक कैलाश वर्मा की तबियत बिगड़ने पर पूर्व विधायक कन्हैयालाल मीणा उन्हे अस्पताल ले जाने लगे तब पुलिस ने फिर से लाठीचार्ज किया. कन्हैयालाल मीणा का कहना है कि पुलिस ने उन्हे सड़क पर घसीटते हुए लाठियां बरसाई। इस दौरान गुस्साई भीड़ ने गोनेर तिराहे पर टायर फूंककर विरोध जताया। इस दौरान पार्षद के घर पर कवरेज करने गये मीडिया कर्मी अनिल शर्मा से भी पुलिस ने मारपीट की. मामले के विरोध में किरोड़ीलाल मीणा भी खोनागोरियान थाने पर पहुंचे और मृतक के परिवार को मुआवजा दिलाने और दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की।

मामले की संवेदनशीलता को देखते हुए पुलिस के आलाधिकारी भी खोनागोरिया थाने पर पहुंच गये. पुलिस का अतिरिक्त जाप्ता इलाके में तैनात कर दिया गया. पुलिस ने इलाके में फ्लैग मार्च निकाली. घटना को लेकर भाजपा का प्रतिनिधीमंडल भी खोनागोरियान थाने पर पहुंचा. सांसद रामचरण बौहरा, अशोक परनामी, अरुण चतुर्वेदी सहित भाजपा पदाधिकारियों ने न्याय की मांग को लेकर थाने के बाहर धरना दिया।

पुलिस ने पूरे इलाके में भारी जाप्ता तैनात कर दिया है. साथ ही शांति स्थापित करने की बात कही है. हालाकि जयपुर में पिछले दिनों में सांप्रदायिक झगड़ो के कई मामले सामने आ चुके है. और आज भी हत्या से जूड़े मामले को साम्प्रदायिक रंग देने का प्रयास किया गया. लेकिन इस दौरान पुलिस की ओर से की गयी कार्रवाई ने आग में घी डालने का काम किया. मौके पर मौजूद थानाधिकारी की ओर से लापरवाही नही की जाती तो स्थिति इस कदर नही बिगड़ती. बहरहाल इस तरह के माहौल में जयपुर पुलिस को संभलकर कारवाई करने की जरुरत है जिससे की कानून व्यवस्था की स्थिति को नियंत्रण में रखा जा सके।

--advt--spot_img