पीसीसी चीफ डोटासरा ने सीएम के सामने रखी खुलकर रखी अपनी पीड़ा

जिला प्रशासन की अनदेखी से नाराज़प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने आज मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के सामने खुलकर अपनी पीड़ा बयां की। आज गहलोत ने वीसी के माध्यम से सीकर में बनने वाले जमनालाल बजाज ऑडिटोरियम का शिलान्यास किया था। कार्यक्रम में जिला प्रशासन ने डोटसरा को इनवाइट नहीं किया था लेकिन गहलोत ने उन्हें सीएमआर में आने का बुलावा भेजा तो उनका दर्द चालक आया। मुख्यमंत्री के सामने डोटासरा ने कहा कि सीकर के विधायक राजेंद्र पारीक ने अपनी स्वायत शासन मंत्री शांति धारीवाल की व्यक्तिगत दोस्ती के कारण ₹30 करोड़ की लागत से बनने वाले ऑडिटोरियमकी सौगात सीकर को दिलाने में कामयाबी हासिल की है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं हो जाता कि ऐसे सार्वजनिक कार्यक्रम में उन्हें नहीं बुलाया जाए। उन्होंने कहा कि सीएम गहलोत के निमंत्रण पर इस कार्यक्रम में मैं शरीक हो रहा हूं । डोटासरा ने सीएम गहलोत की मौजूदगी में ही जिला प्रशासन को भी आड़े हाथ लिया और कहा कि उनकी कमजोरी के कारण 80 करोड़ की लागत से बनने वाला कोर्ट का भवन 6 महीने से लटका पड़ा हुआ है। उन्होंने कहा कि यह क्यों नहीं बन पा रहा यह मुझे नहीं बताया जा रहा है।  सीएम गहलोत ने जब जिला प्रशासन से इसकी  देरी के बारे में पूछा तो  जिला कलेक्टर ने कहा कि जिस स्थान पर  कोर्ट का भवन बनना है वहां से हाई पावर बिजली की लाइन जा रही है उसके कारण परेशानी आ रही थी अब  इस समस्या का समाधान हो गया है और सार्वजनिक निर्माण विभाग को राशि जमा करने के बाद यह कार्य बिजली विभाग के माध्यम से संपन्न हो पाएगा।
कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष डोटासरा  ने कहा कि नवलगढ़ पिपराली रोड अभी सीवरेज और ड्रेनेज अछूता है। ऐसे में वहां बारिश में बहुत अधिक समस्या उत्पन्न होती है उन्होंने सीएम गहलोत से मांग करते हुए कहा कि इस समस्या के समाधान के लिए बजट उपलब्ध कराया जाना चाहिए। 
डोटासरा ने कहा कि शासन मंत्री शांति धारीवाल और सीकर के विधायक राजेंद्र पारीक  का दोस्ताना पुराना और जबरदस्त है यही कारण है कि उनके ऊपर  धारीवाल की विशेष कृपा बनी रहती है। उन्होंने आग्रह करते हुए कहा कि हम पर भी  वैसी कृपा दृष्टि तो नहीं रखोगे लेकिन हमारे बताएं में काम को तो करना पड़ेगा।

--advt--spot_img