राजस्थान में पेपर लीक के आरोपियों की कोचिंग पर चला बुलडोजर, जयपुर जेडीए का एक्शन

राजस्थान सरकार सरकारी भर्ती परीक्षाओं के पेपर लीक मामले में बेरोजगारों और विपक्ष के निशाने पर है। आज जेडीए की टीम ने पेपर लीक मामले में सरकार की किरकिरी करवाने वाले अधिगम कोचिंग सेंटर पर बलुडोजर चला दिया।

राजस्थान में RPSC की हाल ही में हुए शिक्षक भर्ती परीक्षा के पेपर लीक मामले में मुख्य आरोपी और मास्टर माइंड सुरेश ढाका के अधिगम कोचिंग इंस्टीट्यूट पर जेडीए ने आज बुलडोजर चला दिया। गौरतलब है कि बुलडोजर मॉडल उत्तरप्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के एक्शन के चलते चर्चा में रहा है, यूपी की तर्ज पर मध्यप्रदेश के बाद राजस्थान सीएम अशोक गहलोत भी चुनावी साल में इस कदम पर चल पड़े है।

सुबह पहुंची जेडीए की टीम

जेडीए की अतिक्रमण हटाने वाली टीम सोमवार सुबह 7:30 बजे जयपुर के जोन-05 एरिया में गुर्जर की थड़ी, गोपालपुरा बायपास मुख्य रोड पर पहुंच गई। यहां शिक्षक भर्ती परीक्षा पेपर लीक केस के मुख्य आरोपियों की ओर से चलाए जा रहे अधिगम कोचिंग इंस्टिट्यूट की बिल्डिंग है। इस पर बुलडोजर का पीला पंजा चलाया गया।

बिल्डिंग बॉयलाज की खामियों के तहत एक्शन

इस बिल्डिंग में रेजीडेंशियल जमीन पर जीरो सेटबैक पर बिल्डिंग बायलॉज का गंभीर उल्लंघन मान कर नोटिस दिया गया था। अवैध कॉमर्शियल निर्माण, रोड सीमा पर अवैध कब्जे-अतिक्रमण पर नियम के मुताबिक लीगल प्रोसेस पूरा कर और ऑथोराइज लेवल पर परमिशन लेकर टेक्निकल टीम की निशादेही पर एनफोर्समेंट टीम ने जेसीबी-पोकलेन मशीनों, लोखंडा और ड्रिल मशीनों से अधिगम कोचिंग इंस्टिट्यूट की बिल्डिंग को गिरा दिया। बड़ी तादाद में मजदूरों की सहायता से अवैध बिल्डिंग को ध्वस्त किया गया।

8 जनवरी तक का दिया गया था समय

कोचिंग इंस्टिट्यूट “अधिगम” शिक्षक भर्ती परीक्षा पेपर लीक प्रकरण के मुख्य आरोपियों की ओर से चलाए जाने की जानकारी मिलने पर 6 जनवरी 2023 को सुबह

एनफोर्समेंट के चीफ कंट्रोलर और एडिशनल कमिश्नर पीआरएन के नेतृत्व में जेडीए दस्ते, जोन की रेवेन्यू और टेक्निकल टीमों ने मौका निरीक्षण – परीक्षण कर

संबंधित बिल्डिंग मालिक अनिल अग्रवाल और भूपेन्द्र सारण, सुरेश ढाका , धर्मेंद्र चौधरी सहित 4 कोचिंग संचालकों को जेडीए की धारा 32 और 72 के तहत नोटिस

जारी किए थे। अवैध निर्माण और अतिक्रमणों को हटाने, अपना जवाब पेश करने के लिए 8 जनवरी 2023 को शाम 5 बजे तक का उन्हें समय दिया गया था।

पूरा दस्ता और पुलिस रही मौजूद

नोटिसों का जवाब तय टाइम पीरियड तक भी नहीं मिलने पर लीगल प्रोसेस अपनाकर और और ऑथोराइज स्तर पर परमिशन लेकर अवैध कॉमर्शियल बिल्डिंग को

ध्वस्त कर दिया गया। 1 पोकलेन मशीन, 3 जेसीबी मशीन, 12 लोखंडा मशीन, 3 ड्रिल, 2 कटर और मजदूरों की सहायता से बिल्डिंग गिराने की कार्रवाई की गई।

मौके पर जीडीए के चीफ कंट्रोलर एनफोर्समेंट, सभी सब-कंट्रोलर्स, जोन -5 के डिप्टी कमिश्नर, सभी एनफोर्समेंट ऑफिसर एनफोर्समेंट टीम, इंजीनियरिंग टीम, जयपुर पुलिस कमिश्नरेट से मानसरोवर एसीपी और थानाधिकारी, 50 पुलिस वालों का ज़ाब्ता मौके पर शांति-व्यवस्था बनाए रखने के लिए कार्रवाई में शामिल रहे।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

--advt--spot_img