सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की पत्नी ने मांगा न्याय, हनुमानगढ़ से जयपुर के लिए पद यात्रा पर निकली; CM हाउस में जौहर की दी चेतवानी

चौक टीम, जयपुर। राजस्थान में लोकसभा चुनाव से पहले एक बार फिर सुखदेव सिंह गोगामेड़ी हत्याकांड सुर्खियों में है। सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की हत्या के बाद उनकी पत्नी शीला शेखावत ने हनुमानगढ़ से जयपुर के लिए पैदल न्याय यात्रा शुरू की है। सुखदेव सिंह गोगामेड़ी के पैतृक गांव 5 जीजीएम से शुरू हुई पैदल न्याय यात्रा बीते रविवार रात को भादरा कस्बे में रुकी थी। वहीं सोमवार को यात्रा जारी है।

पत्नी ने CM हाउस में जौहर की दी चेतवानी

दरअसल, सीएम हाउस में मुख्यमंत्री भजनलाल शर्मा के साथ शीला शेखावत के प्रतिनिधियों की 20 मिनट चली वार्ता बेनतीजा रही। वार्ता के विफल होने के बाद यात्रा जारी रखने का निर्णय लिया गया। इससे पहले रविवार को पैदल न्याय यात्रा शुरू होते ही पुलिस और प्रशासन ने दो बार समझाइश के लिए रोका, लेकिन शीला शेखावत और राजपूत समाज ने यात्रा जारी रखी। गोगामेड़ी की पत्नी ने सीएम हाउस में जौहर करने की चेतावनी दे रखी है। इसके कारण पुलिस और प्रशासन के हाथ-पांव फूले हुए हैं।

आपको बता दें बड़ी संख्या में राजपूत महिलाएं और बेटियों जयपुर की ओर बढ़ रही हैं। जयपुर में सीएम भजन लाल के आवास के पास आकर जौहर करने की चुनौती दी गई है। इन महिलाओं की अगुवाई श्री राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष रहे सुखदेव सिंह गोगामेडी की पत्नी कर रही है।

पत्नी की सरकार से है ये मांग

दरअसल बहुचर्चित सुखदेव सिंह गोगामेड़ी की हत्या के मामले में 11 सूत्री मांगों के पूरा ना होने पर श्री राष्ट्रीय राजपूत करणी सेना ने हनुमानगढ़ जिले में सुखदेव सिंह के पैतृक गांव से जयपुर तक पैदल यात्रा शुरू की। शीला शेखावत का आरोप है कि राज्य सरकार ने 11 सूत्री मांगों में से दो मांगें ही पूरी की हैं और एनआईए जांच में भी कोई प्रगति नहीं हो रही है। केवल आश्वासन दिए जा रहे हैं। यह वादा खिलाफी है। उन्होंने सीएम भजनलाल शर्मा से भी मुलाकात की है। लेकिन वार्ता बेनतीजा होने की खबर है। एक बार फिर पैदल यात्रा करेंगीं।

6 मार्च को श्रद्धांजलि सभा, विधानसभा घेराव

घटनाक्रम को 90 दिन होने के बावजूद आरोपियों पर सख्ती नहीं गई। उनका तुरंत एनकाउंटर या फांसी की सजा दी जाए। घटना के समय घायल बॉडीगार्ड नरेंद्र सिंह को सरकारी मदद और गवाहों को सुरक्षा मिले। इसे लेकर क्षत्रिय करणी सेना छह मार्च को वैशालीनगर स्थित चित्रकूट स्टेडियम में 6 मार्च को श्रद्धांजलि सभा करेगी। सभा के बाद करणी सेना के सदस्य विधानसभा का घेराव करेंगे।

सेना के राजस्थान प्रदेश अध्यक्ष शिव सिंह शेखावत ने कहा कि संघर्ष समिति की ओर से घटना के समय 15 सूत्री मांगों पर सहमति बनी थी। लेकिन सरकार ने इस ओर ध्यान नहीं दिया है। हमारा समाज पिछले तीन महीने से सरकार से लगातार इस केस को लेकर कड़े कदम उठाने की मांग कर रहा है। सभा में प्रदेशभर और अन्य राज्यों से लोग शिरकत करेंगे। दोपहर 12 बजे से श्रद्धांजलि सभा होगी। इसके बाद दोपहर 1.50 बजे से सभा में शामिल लोग राजस्थान विधानसभा की ओर कूच कर विधानसभा घेराव और धरना प्रदर्शन करेंगे। सभी मांगों पर सहमति के बाद ही आंदोलन का पूर्णविराम होगा।

Leave a reply

Please enter your comment!
Please enter your name here

--advt--spot_img